Wednesday, February 21,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

हज के दौरान काबा में भारतीय मुस्लिम महिला के साथ यौन दुव्र्यवहार

Publish Date: February 11 2018 11:44:59am

नई दिल्ली  (उत्तम हिन्दू न्यूज) : मोदी सरकार ने भारतीय मुस्लिम महिलाओं को खुला माहौल और अधिक स्वतंत्रता प्रदान करते हुए अकेले हज करने का अधिकार दिया है। हज मुसलमानों के लिए पवित्र तीर्थ यात्रा है। पहले भारतीय मुस्लिम महिलाएं हज पर जाने के लिए पिता, पति और पुत्र पर आश्रित होती थी, लेकिन अब वह अकेली ही जा सकती हैं। इस बीच एक बुरी खबर यह है कि हज के लिए काबा गई एक भारतीय मुस्लिम महिला के साथ तीर्थ के दौरान यौन दुव्र्यवहार किया गया। इसका जिक्र खुद पीडि़ता ने फेसबुक पर टैग करके की है। 

सऊदी अरब के मक्का में काबा में दुनियाभर के मुसलमान हज के लिए जाते हैं, इस जगह को इस्लाम में एक खास मुकाम हासिल है। काबा में हर साल हज के लिए लाखों लोग जानते हैं और कई तरह की कहानियां अपने साथ लेकर आते हैं, लेकिन एक महिला ने अलग ही वाकये का जिक्र किया है, जो उसके साथ काबा में हुआ। सबिका खान ने फेसबुक पर हैशटेग मीटू के साथ काबा में हुए दुव्र्यवहार की कहानी साझा की है। सबिका ने बताया कि वो इसलिए डर रही थी कि कहीं ये लोगों की भावनाओं को आहत न करे, लेकिन वह अपनी बात रख रही हैं। 

उन्होंने लिखा कि हम इसा की नमाज अदा करने के बाद काबा का तवाफ कर रहे थे तो मेरे साथ वह हुआ जो मैंने ख्वाब में भी नहीं सोचा था। तीसरे तवाफ के दौरान मैंने पाया कि एक हाथ मेरी कमर पर था। मैंने यह मानकर अनदेखा कर दिया कि गलती से हो सकता है, लेकिन जब दोबारा और तीसरी बार हुआ तो इसने मुझे परेशान कर दिया, मैं पूरी तरह से सन्न थी कि आखिर यह हो क्या रहा है, लेकिन हद तब हो गई जब वह हाथ मेरे कमर से नीचे जाने लगा। जब हाथ मेरे कमरे के नीचे पहुंचा तो भी भीड़ होने की वजह से इसे इग्नोर करती रही, लेकिन हद तब हो गई जब मेरी बट पर गलत तरह से मुझे छुआ गया। भीड़ बहुत ज्यादा थी मैंने मुडऩे की कोशिश की, लेकिन मुड़ नहीं सकी, मैं चाहती थी कि चिल्लाऊं, लेकिन भीड़ मुझे धकेल रही थी। 

मैंने सोचा कि इस हाथ को पकड़ लूं और उसे खुद से दूर कर दूं, मैं धीमा होकर, जितना मुड सकती थी मुड़ी लेकिन कुछ देख न सकी कि आखिर वह कौन था। मैं यमीनी कॉर्नर के पास रुक गई। मेरी आंखों में आंसू थे, मैं रुक गई, लेकि मैं नहीं देख पाई कि वह कौन था। मैं खुद को बिल्कुल अकेली महसूस कर रही थी। मैंने महसूस किया कि मैं इसके बारे में बोल भी नहीं सकती हूं, क्योंकि मुझे लगा कि कोई मेरा यकीन नहीं करेगा। मैं होटल के रूम में लौटी और अपनी अम्मी को ये सब बताया क्योंकि वही मेरा यकीन कर सकती थीं। उन्होंने ये सुना तो परेशान हो गईं और फिर मुझे अकेले भीड़ में नहीं जाने दिया। सबिका कहती हैं कि ये कहना अपने आप में दिल तोडऩे वाला है कि धार्मिक स्थान भी सुरक्षित नहीं है, इन जगहों पर ऐसा एक--दो बार नहीं बार--बार होता है। 

हद तब हुई, जब हाथ मेरे कमरे के नीचे पहुंचा

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400023000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।


विराट कोहली ने रचा इतिहास, डिविलियर्स और लारा भी हुए पीछे

नई दिल्ली (उत्तम हिंदू न्यूज) : सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों की लिस्ट में अपना नाम बनाने वाले भा...

फिल्म के राइट्स बेचने पर फंसीं रजनीकांत की पत्नी, लौटाने होंगे 6.2 करोड़ रुपये

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): फिल्मों में राजनीति में कदम रखने वाले सुपरस्टार रजनीकांत म...

top