Thursday, January 18,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राजनीति

मिशन 2019

Publish Date: December 22 2017 01:07:32pm

गुजरात और हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनावों में मिली सफलता के बाद संसदीय दल की बैठक में बोलते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि 'इंदिरा गांधी के कार्यकाल में कांग्रेस के पास 18 राज्य थे, वहीं वर्तमान में हमारे पास 19 राज्य हैं। मोदी ने कहा कि वर्ष 1984 में हमारे पास महज दो सीटें थीं। हम कड़ी मेहनत से यहां तक पहुंचे। यहां तक पहुंचने के लिए विकास को शासन का मूल मंत्र बनाया। उन्होंने कहा कि लोगों का भरोसा पार्टी के प्रति मजबूत हुआ है। लोग विकास की राजनीति को हाथों हाथ ले रहे हैं। ऐसे में हमारी जिम्मेदारी बढ़ गई है। लोगों का भरोसा बनाए रखने के लिए हमें युवा वर्ग के साथ हर बूथ पर अपनी मजबूत पकड़ बनानी होगी। उन्होंने कहा कि पार्टी के अंदर और बाहर युवा चेहरों को अहम जिम्मेदारी दी जाए। सभी सांसद और नेता सरकार के 2022 के न्यू इंडिया लक्ष्य के लिए मिलकर काम करें।'

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों को देखते हुए जो बात संसदीय दल को संबोधित करते हुए कही है उसे भारतीय जनता पार्टी के प्रत्येक छोटे-बड़े नेता से लेकर आम कार्यकर्ता को भी समझने की आवश्यकता है। गुजरात में कांग्रेस हारी अवश्य है लेकिन यह एक सम्मानजनक हार है। इस चुनाव के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का राजनीतिक कद भी बढ़ा है। साथ ही गुजरात के मतदाता ने भी भाजपा को चेतावनी दे दी है कि अगर सुशासन नहीं मिला तो भविष्य में भाजपा की भी कठिनाइयां बढ़ जाएंगी।

गुजरात चुनावों के परिणामों को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि भविष्य में होने वाले विधानसभा चुनावों और 2019 के लोकसभा चुनावों में अगर कांग्रेस क्षेत्रीय दलों के साथ तालमेल बढ़ाने व अपने क्षेत्रीय नेताओं को स्थापित कर चुनाव मैदान में उतरती है तो भाजपा की कठिनाइयां बहुत बढ़ जाएंगी। भाजपा की सफलता का मुख्य कारण तो प्रधानमंत्री मोदी के प्रति लोगों का आकर्षण ही है। यह आकर्षण 2019 के लोकसभा चुनावों तक बना रहे इसके लिए भाजपा नेतृत्व को संगठन स्तर पर कार्य करने के साथ-साथ स्थानीय स्तर पर लोगों को सरकार की नीतियों का क्या लाभ हो रहा है को बताने की आवश्यकता है।

दूसरा बड़ा कदम यह उठाना होगा कि विपक्ष द्वारा रचे जा रहे चक्रव्यूह से बचने हेतु कट्टरवादियों पर नकेल डालनी होगी। हिन्दुत्व के नाम पर देश में भय का माहौल नहीं बनने देना चाहिए। हिन्दुत्व तो परमार्थ पर आधारित है और सबकी भलाई की बात करने के साथ हिंसा का विरोध करता है, लेकिन क्षेत्रीय व स्थानीय स्तर पर भाजपा का एक वर्ग दहशत का माहौल अपने ब्यानों द्वारा बनाने का प्रयास कर रहा है। उस पर नजर रख कर काबू करने की आवश्यकता है। केंद्र की नीतियों को प्रदेश स्तर पर लागू किया जाए यह बात सुनिश्चित की जाए। जन साधारण को न्याय व राहत मिले यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए।
उपरोक्त सबकुछ तभी सम्भव है जब संगठन मजबूत होता है। भाजपा में संगठनात्मक स्तर पर धड़ेबंदी अब जगजाहिर होने लगी है। मिशन 2019 के लिए पार्टी के भीतर पनप रही धड़ेबंदी को समाप्त करने व संतुलन बनाये रखने के लिए तत्काल कदम उठाए जाने चाहिएं। 'सबका साथ व सबका विकासÓ की बात धरातल स्तर पर दिखनी चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता तो मिशन 2019 की प्राप्ति हेतु एक नहीं अनेक चुनौतियों का सामना करने के लिए भाजपा नेतृत्व को तैयार रहना चाहिए।     

-इरविन खन्ना, मुख्य संपादक, दैनिक उत्तम हिन्दू।

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400023000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।


टेस्ट रैंकिंग में विराट कोहली को कितने मिले अंक, जानिए

दुबई (उत्तम हिन्दू न्यूज): भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली आईसीसी टेस्ट बल्लेबाजो...

न्यूयॉर्क की सड़क पर प्रियंका चोपड़ा ने किया इस शख्स को किस, देखिए तस्वीरें

न्यूयॉर्क (उत्तम हिन्दू न्यूज): प्रियंका चोपड़ा न्यूयॉक की सड...

top