Sunday, February 25,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राजनीति

सत्य कहते नेतन्याहू

Publish Date: January 19 2018 01:59:00pm

विदेश मंत्रालय एवं ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित रायसीना डॉयलॉग के उद्घाटन व्याख्यान में नेतन्याहू ने कहा आज की तारीख में ताकतवर होना बहुत ज़रूरी है क्योंकि इस दुनिया में कमज़ोर का बचा रह पाना बहुत मुश्किल है। आप हमेशा शक्तिशाली के साथ हाथ मिलाते हैं, अगर आपको दुनिया में शांति कायम करनी है तो भी आपको शक्तिशाली होना पड़ेगा। उन्होंने कहा ताकतवर होना हमारे समय की सबसे बड़ी जरूरत है। जिंदा रहने के लिए न्यूनतम ताकत जरूरी है। उन्होंने सांस्कृतिक, वैज्ञानिक एवं शैक्षणिक ताकत की महत्ता को भी स्वीकार किया लेकिन उस पर सैन्य शक्ति को बेहतर बताया। उन्होंने कहा सॉफ्ट पावर अच्छी बात है और हार्ड पावर और भी बेहतर चीज है। उन्होंने कहा कि वैसे आज के समय में किसी भी देश के लिए सैन्य शक्ति, आर्थिक शक्ति, तकनीकी ताकत और सांस्कृतिक शक्ति चारों का होना बहुत जरूरी है। प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व कौशल की सराहना करते हुए नेतन्याहू ने कहा कि उन्हें यह जानकर हैरानी हुई है कि मोदी ने पिछले तीन सालों में भारत में व्यापार सुगमता को बहुत आसान कर दिया और भारत ने अंतर्राष्ट्रीय रेटिंग में 42 पायदान की छलांग लगायी है। उन्होंने कहा कि अगर आपको आर्थिक शक्ति बनना है तो आपको कर नीति को सरल बनाना होगा तथा लाल फीताशाही पर रोक लगानी होगी। भारत और इजरायल दोनों देशों का मुख्य उद्देश्य इसी लाल फीताशाही को कम से कम करना है, ताकि व्यापार करना और आसान हो। इजरायली प्रधानमंत्री ने कहा कि दुनिया को कट्टर इस्लाम से चुनौती मिल रही है। उन्होंने कहा कि श्री मोदी पिछले 30 साल में इजरायल आने वाले पहले भारतीय नेता हैं, दुआ है कि भारत और इजरायल की दोस्ती को किसी की नजरन लगे।

इजरायल के प्रधानमंत्री बेजामिन नेतन्याहू ने भारत की दोस्ती को लेकर जो कहा वह तो महत्त्वपूर्ण है ही लेकिन वर्तमान में शक्ति के महत्व को लेकर जो कहा वह एक ऐसा सत्य है जिससे कोई इंकार नहीं कर सकता। इजरायल चारों तरफ से इस्लामिक देशों से घिरा हुआ है और यह सभी इजरायल  के अस्तित्व में आने से लेकर आज तक उसके दुश्मन हंै और समय-समय पर इस्लामिक देशों ने इजरायल पर दबाव बनाने व उसे कमजोरकरने की कोशिश की। सैन्य युद्ध भी किए लेकिन इजरायलने इस्लामिक देशों का सफलतापूर्वक मुकाबला ही नहीं किया बल्कि उन्हें धूल चटाने में भी सफल रहा।

भारत को भी आज जेहादी आये दिन चुनौती देते रहते हैं। पाकिस्तान के समर्थन और संरक्षण से आतंकवादी भारत के भीतर हिंसक कार्रवाई करते रहते हैं। सीमाओं पर पाकिस्तान सीमा उल्लंघन करता रहता है। यह सब कुछ ठीक उसी तरह है जिस तरह इजरायल विरुद्ध इस्लामिक देश करते हैं। लेकिन इजरायल ने राष्ट्रवादी नीति अपनाकर तथा देशहित में सभी देशवासियों को एकजुट करइजरायलविरोधियों को मुंह तोड़ जवाब दिया है और अपने मान-सम्मान को बरकरार रखा है। नेतन्याहू ने अपने अनुभव के आधार पर जो कहा है उसका लाभ भारत को लेने की आवश्यकता है। भारत को आर्थिक क्षेत्र के साथ सैन्य क्षेत्र में भी एक बड़ी शक्ति के रूप में विश्व स्तर पर स्थापित होने की आवश्यकता है। जब तक भारत एक सैनिक शक्ति के रूप में अपने आप को स्थापित नहीं कर लेता तब तक पाकिस्तान और चीन सीमा पर शरारत करते रहेंगे। इस्लाम के नाम पर जो भारत विरुद्ध जेहाद जारी रखने और हजार वर्षों तक लडऩे की बात करते हैं उन सभी का उत्तर सैनिक दृष्टि से एक शक्तिशाली भारत ही है।



-इरविन खन्ना, मुख्य संपादक,
दैनिक उत्तम हिन्दू।

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9814266688 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।


 टी-20 विश्व कप में हम अपने प्रदर्शन से सबको चौंका देंगे: मिताली

केपटाउन (उत्तम हिन्दू न्यूज): दक्षिण अफ्रीका दौरे पर ऐतिहासिक...

प्लास्टिक सर्जरी से हुई श्रीदेवी की मौत, वायरल मैसेज का दावा

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): श्रीदेवी की अचानक हुई मौत से ...

top