Monday, February 19,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
पंजाब

एनआरआई से 20 करोड़ की धोखाधड़ी, कांग्रेस नेत्री सहित 6 पर केस

Publish Date: February 14 2018 06:53:08pm

फगवाड़ा/गिरधर शर्मा : कंपनी में निवेश के नाम पर करोड़ों रुपये की धोखाधड़ी करने के आरोप में थाना सतनामपुरा पुलिस ने इंटक की महिला विंग की प्रदेश प्रधान, उसकी बेटी व उसके रिश्तेदारों सहित छह लोगों पर केस दर्ज किया है। यह मामला एक एनआरआई की शिकायत पर दर्ज किया गया है। पुलिस के अनुसार, आरोपियों की पहचान प्रदेश महिला इंटक की प्रधान मीनाक्षी वर्मा, उसकी बेटी दीप्ति भल्ला, सोहन लाल शींह, उसकी पत्नी वीना शींह दोनों बेटे लोकेश शींह, लोहित शींह व उनकी दुबई में रह रही एक विदेशी क्रिस्टीना लोजावास्का के रूप में हुई है। अभी पुलिस ने किसी आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया है। थाना सतनामपुरा के एसएचओ नरिंदर सिंह औजला ने कहा कि पुलिस आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापामारी कर रही है। इंग्लैंड में रह रहे एनआरआई सुरिंदर कुमार ने पुलिस को शिकायत देकर इन लोगों पर धोखाधड़ी करने का आरोप लगाया है।

सुरिंदर कुमार ने पुलिस को दी शिकायत में आरोप लगाया कि इन आरोपियों ने मिलकर अलग-अलग जगह व अलग-अलग तरीकों से उसके साथ करीब 20 करोड़ 80 लाख की धोखाधड़ी की है। पुलिस को दी शिकायत में सुरिंदर कुमार ने बताया कि वह इंग्लैंड में कई सालों से रह रहा है। महिला कांग्रेस नेत्री मीनाक्षी वर्मा की बेटी दीप्ति की शादी इंग्लैंड में हुई है। दीप्ति के साथ उनकी दोस्त हो गई। दीप्ति ने उसे भारत आने का न्यौता दिया। नवंबर 2015 में वह और उसका परिवार भारत आकर दीप्ति के घर पर ठहरे। वहां दीप्ति ने उन्हें लोकेश शींह व लोहित शींह से मिलवाया। उसने बताया कि लोकेश शींह व लोहित शींह दुबई की एएस मार्केट कंपनी के बहुत बड़े स्टाक ब्रोकर है। अगर आप इच्छुक हैं तो आप जितना पैसा इस कंपनी में लगाएंगे उसका 30 फीसद आपको मुनाफा मिलेगा। सुरिंदर कुमार ने बताया कि वह इनके झांसे में आ गया व उसने मौके पर ही 30 लाख रुपये इन्हें दे दिए। इन पैसों की जिम्मेवारी मीनाक्षी वर्मा व उसकी बेटी दीप्ति ने ली।

सुरिंदर ने पुलिस को बताया कि उससे पैसे ऐंठने का सिलसिला लगातार जारी रहा। इन लोगों ने उसे गुडगांव आफिस व दुबई में भी बुलाया। इसके बाद उसने करीब 12 करोड़ रुपये दोनों भाईयों को दे दिए। वहां पर मीनाक्षी वर्मा, दीप्ति भी मौजूद थे। अगली बैठक इंग्लैंड में लोकेश व उनकी विदेशी दोस्त क्रिस्टीना से हुई, जिसके बाद उसने क्रिस्टीना के खाते में 95 लाख रुपये आनलाइन ट्रांसफर किए।
सुरिंदर ने पुलिस को बताया कि इसके बाद आरोपियों ने अपने झांसे में लेकर अपने दुबई आफिस बुलाकर अपने निजी बिजनेस में पैसे लगाने व ज्यादा पैसे कमाने का झांसा देकर अपनी बातों में फंसा लिया। जिसके बाद उसने अपने बैंकों में पड़े 3 करोड़ 30 लाख रुपये निकालकर लोकेश को दे दिए। इस तरह उसने करीब 20 करोड़ 80 लाख रुपये इन्हें दिए।

बाद में उसने प्रॉफिट में अपना हिस्सा मांगा तो आरोपियों ने इसे मार्च 2017 को फगवाड़ा बुलाया। सुरिंदर का कहना है कि मीनाक्षी वर्मा के घर पर इनकी बैठक हुई, इसके बाद उन्हें एक होटल में बुलाया गया। जहां उक्त लोग मौजूद थे और बाद में ये लोग होटल से ये कहकर चले गए कि वे पैसे लेकर वापस आते है। लेकिन कोई वापिस नहीं लौटा। मामले की जांच के बाद पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ थाना सतनामपुरा में केस दर्ज कर लिया है।
मेरा इस मामले से कोई लेना देना नहीं : मीनाक्षी वर्मा
इस संबंध में मीनाक्षी वर्मा ने कहा कि उसका इस मामले से कोई लेना देना नहीं है, न ही उनकी इस पूरे मामले में कोई भूमिका है। उन्?हें झूठे मामले में फंसाया जा रहा है। उन पर लगाए जा रहे सभी आरोप बेबुनियाद, तथ्यहीन व सच्चाई से कोसों दूर है। उन्होंने कहा कि वह इस मामले में इंसाफ की गुहार लगाएंगी। जल्द ही पुलिस के उच्चाधिकारियों से मिलकर जांच की मांग करेगी। मीनाक्षी ने कहा कि जांच के बाद सच्चाई खुद ब खुद सामने आ जाएगी और वह पूरी तरह से बेकसूर साबित होंगी।

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400023000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।


टी20 में धोनी ने बनाया नया रिकाॅर्ड, संगाकारा को भी पीछे छोड़ा

जोहानिसबर्ग (उत्तम हिंदू न्यूज) : भारतीय क्रिकेट टीम के पुर्व...

अमिषा पटेल को यह क्या हो गया, देखिए तस्वीरें

मुम्बई (उत्तम हिन्दू न्यूज): फिल्म'कहो ना प्यार है', ...

top