Friday, July 28,2017     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
बिज़नेस

अब चीन ने भारतीय घरों में भी दी दखल

Publish Date: July 17 2017 09:58:30am

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज) : भारत और चीन के विवाद के बाद पूरे देश में चीन के खिलाफ काफी नाराजगी है। कुछ संगठन तो चीनी सामान का बहिष्कार कर अपना विरोध जता रहे हैं। इसके बावजूद चीन भारतीय घरों में भी घुस आया है। चीन ने अपनी दखलअंदाजी न सिर्फ हमारे देश की सीमा, बल्कि अर्थव्यवस्था, व्यापार, बाजार और यहां तक कि बेडरूम में भी घुस आया है।  
चीन हमारे देश के इस व्यापार के ज्यादातर हिस्से पर कब्जा करना चाहता है। चीन के इस कदम के खिलाफ यूरोप और यूएस पर्याप्त कदम उठा रहे हैं, वहीं हमने भारतीय बाजार में आने की खुली छूट दे दी है। राम कुमार यादव दिल्ली की फेडरेशन ऑफ सदर बाजार ट्रेडर्स एसोसिएशन के प्रेजिडेंट हैं। यह संगठन दिल्ली की अन्य 83 एसोसिएशनों का प्रमुख है। इस संगठन से जुड़े होल सेल ट्रेडर्स की संख्या लगभग 35 हजार है। कुल 3 हजार करोड़ सालाना के टर्नओवर वाले ट्रेडर्स के कर्मचारियों की संख्या 1 लाख (प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष) के आसपास है। करीब एक दशक पहले तक ये लोग खिलौने, बाल्टी और मूर्ति जैसी दूसरी चीजों के लिए लोकल मैन्युफैक्चरर्स पर निर्भर थे। उन सभी ने अपना काम बंद कर दिया है और चीन से माल मंगाना शुरू कर दिया है। चीन के सस्ते और अच्छे सामान ने स्थानीय इंडस्ट्री को बंद होने पर मजबूर कर दिया। 
सीमा पर भले ही भारत और चीन के बीच तनातनी की खबरें आती हों, लेकिन लोकल मार्केट में अब चीन का सामान अपनी बड़ी जगह बना चुका है। हालांकि कुछ संगठन चीनी सामान के बहिष्कार की बात कहते हैं। आरएसएस (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ) और इसके अनुषांगिक संगठन स्वदेशी जागरण मंच चीनी सामन का पुरजोर तरीके से बॉयकॉट करते रहे हैं, लेकिन स्थिति उतनी आसान नहीं है, जितनी दिखती है। चीन का सामान न सिर्फ आपके देश, अर्थव्यवस्था, व्यापार बाजार और यहां तक कि आपके बेडरूम में घुस आया है। क्रिसिल के प्रमुख अर्थशास्त्री डीके जोशी ने बताया कि भले ही दोनों देशों में राजनीतिक मतभेद हों, लेकिन इससे द्विपक्षीय व्यापार पर कभी कोई खास असर नहीं पड़ा है। 
चीन भारत का सबसे बड़ा ट्रेडिंग पार्टनर है। दोनों की 71.5 बिलियन डॉलर का द्विपक्षीय व्यापार है, लेकिन इसका ज्यादातर हिस्सा चीन के समर्थन में है। भारत चीन से 61.3 बिलियन डॉलर का इम्पोर्ट करता है, जबकि एक्सपोर्ट महज 10.2 बिलियन डॉलर है। भारत को अपने व्यापार में गुणात्मक संतुलन बनाने की जरूरत है। चीनी सामान का भारत में प्रभुत्व मोबाइल फोन, प्लास्टिक, इलेक्ट्रिकल आइटम, मशीनरी और उससे जुड़े पुर्जों में है। इसके विपरीत भारत चीन को अयस्क, कपास और खनिज ईंधन एक्सपोर्ट करता है। 
1962 के युद्ध के बाद खुद को सशक्त बनाने के लिए न सिर्फ सैन्य तौर पर मजबूत किया, बल्कि आर्थिक, राजनीतिक और राजनयिक स्तर पर भी काफी मजबूत किया है। पिछले कई साल में चीन ने ऐसा करने के लिए कई बड़े कदम उठाए। ज्यादातर सेक्टर में इसने कई बड़ी एमएनसी शुरू की, जैसे अलीबाबा (ऐमजॉन को चीन का जवाब), बायदू (चीन का गूगल), वी चैट (चीन का फेसबुक) और शाओमी (चीन का ऐपल)। चीन ने दुनिया के बड़े प्रॉडक्ट की लगभग कॉपी कर ये प्रॉडक्ट बनाए और उन्हें बेहद सस्ते दामों में मार्केट में उतारा और दुनिया भर की कंपनियों को चुनौती दे दी। 
चीनी कंपनियां भारत के टेलिकॉम सेक्टर में बेहद अंदर तक पकड़ रखती हैं। मोबाइल हेंडसेट में, भारत के 8 बिलियन डॉलर के स्मार्टफोन बाजार में 51 प्रतिशत हिस्सा शाओमी, ओप्पो, वीवो और वन प्लस जैसी चीनी कंपनियों का है। कुछ ऐसा ही मामला टेलिकॉम सेक्टर के इक्विपमेंट मार्केट का भी है। टेलिकॉम इक्विपमेंट मैन्युफैक्चरर्स ऑफ इंडिया के पूर्व चेयरमैन एनके गोयल ने बताया, भारत ने बगैर किसी टेस्ट, ड्यूटी या स्थानीय मार्केट के प्रॉटेक्शन के टेलिकॉम इक्विपमेंट इम्पोर्ट को इजाजत दे दी। साल 2010 में 3 प्रतिशत नीलामी के समय भारत सरकार नींद से उठी और ऐंटी डंपिंग ड्यूटी लगाई। 2012 में एक और नियम बनाया और सरकारी विभागों के ऑर्डर का 30 प्रतिशत हिस्सा स्थानीय मार्केट के लिए रिजर्व कर दिया गया। इसी तरह पावर सेक्टर में भी अकेले 12वीं योजना में, उत्पादन क्षमता का लगभग 30 प्रतिशत चीन से आयात किया गया था। इसी तरह अप्रैल 2016 से जनवरी 2017 तक चीन से हुए 87 पर्सेंट सोलर इक्विपमेंट इंपोर्ट हुए, जिसकी बाजार कीमत 1.9 बिलियन डॉलर है।
 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।


गॉल टेस्ट : विराट सेना ने कसा श्रीलंका पर शिकंजा, 291 पर समेटी पारी 

गॉल (उत्तम हिन्दू न्यूज) : भारतीय क्रिकेट टीम ने शुक्रवार को ...

सलमान खान के दोस्त बॉलीवुड एक्टर इंद्र कुमार का निधन 

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज):  अभिनेता सलमान खान के करीबी दोस्त औ...

top