Thursday, September 21,2017     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
शिक्षा

बदहाल शिक्षा: 35 लाख से अधिक बच्चे स्कूल ही नहीं गए

Publish Date: September 13 2017 11:00:07am

संयुक्त राष्ट्र (उत्तम हिन्दू न्यूज): विश्व के कई हिस्सों में विभिन्न समुदायों के प्रति हिंसा की वजह से लगातार बढ़ रही शरणार्थी समस्या के कारण लाखों शरणार्थी बच्चों की शिक्षा बुरी तरह प्रभावित हो रही है और गत शैक्षणिक वर्ष में ऐसे 35 लाख से अधिक बच्चे स्कूल नहीं गए। 


संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी उच्चायुक्त (यूएनएचसीआर) की कल जारी एक रिपोर्ट "लेफ्ट बिहाइंड: रिफ्यूजी एजुकेशन इन क्राइसिस" के मुताबिक यूएनएचसीआर के अंतर्गत अधिकृत एक करोड़ 72 लाख शरणार्थी बच्चों में से 64 लाख बच्चे स्कूल जाने वाली उम्र (पांच से 17 साल) के हैं। संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी उच्चायुक्त फिलिप्पो ग्रैंडी ने एक बयान जारी कर कहा कि इन शरणार्थी बच्चों को शरण देने वाले देशों के शांतिपूर्ण और सतत विकास के लिए इनकी शिक्षा बहुत महत्वपूर्ण है और जब कभी भी वे स्वदेश लौटे तो वहां के विकास में भी अपना योगदान दे सके।
 

ग्रैंडी ने कहा कि दुनिया के अन्य बच्चों की तुलना में इन शरणार्थी बच्चों को शिक्षा एवं अन्य अवसर बहुत कम उपलब्ध हैं। यूएनएचसीआर के अनुसार दुनिया के कुल 91 प्रतिशत बच्चों को प्राथमिक शिक्षा उपलब्ध है जबकि शरणार्थियों में यह आंकड़ा मात्र 61 प्रतिशत है और कम आय वाले देशों में यह 50 फीसदी से भी कम है। ये बच्चे जैसे-जैसे बड़े होते जाते हैं, स्थितियां और बदतर होती जाती हैं। दुनिया भर में जहां 84 प्रतिशत बच्चों को माध्यमिक शिक्षा हासिल होती है वहीं महज नौ फीसदी शरणार्थी बच्चों को माध्यमिक शिक्षा मिल पाती है हालांकि कम आय वाले देश इस मामले में आगे हैं और वे अपने 28 प्रतिशत बच्चों को माध्यमिक शिक्षा देते हैं। ग्रैंडी ने कहा कि प्राथमिक शिक्षा को लेकर शरणार्थी लड़कों की अपेक्षा लड़कियों को बहुत कम अवसर उपलब्ध हैं। शरणार्थी लड़कों की तुलना में 80 प्रतिशत से भी कम लड़कियों को प्राथमिक शिक्षा मिलती है जबकि माध्यमिक शिक्षा के मामले में यह आंकड़ा 70 फीसदी भी नहीं है। 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400043000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।


कोलकाता वनडे : विराट शतक से चूके, भारत के 252

कोलकाता  (उत्तम हिन्दू न्यूज) : कप्तान विराट कोहली (92) अपने 31...

top