Friday, September 22,2017     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

दुनिया छोड़ गए संविधान को जानने वाले पीपी राव 

Publish Date: September 13 2017 04:04:55pm

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): संविधान विशेषज्ञ एवं वरिष्ठ अधिवक्ता पी पी राव का दिल का दौरा पडऩे से आज यहां निधन हो गया। वह 84 वर्ष के थे। एक जुलाई 1933 को जन्मे श्री राव ने इसी वर्ष जुलाई में वकालत पेशे में पांच दशक पूरे किये थे। देश के प्रमुख संविधान विशेषज्ञों में शुमार राव ने अपने शुरुआती दिनों में एम सी सीतलवाड़, एन सी चटर्जी, एस वी गुप्ते, ए के सेन और नीरेन डे के साथ काम किया था और उनके व्यक्तित्व में इन शख्सियतों की झलक देखी जा सकती थी। उन्होंने 1967 में दिल्ली बार काउंसिल से अपना पंजीकरण कराया था और उसके बाद वह उच्चतम न्यायालय में प्रैक्टिस करने लगे थे। वह 1976 में वरिष्ठ अधिवक्ता बने। 

वर्ष 1991 में वह सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन (एससीबीए) के अध्यक्ष चुने गये थे और 2006 में उन्हें पद्मभूषण से सम्मानित किया गया था। वकालत पेशे के अपने शुरुआती दिनों में उन्होंने बहुचर्चित 'केशवानन्द भारतीÓ मामले में आंध्र प्रदेश सरकार की पैरवी की थी तथा 'एडीएम जबलपुर कांडÓ में तत्कालीन एटर्नी जनरल नीरेन डे के सहायक की भूमिका निभायी थी। एआर अंतुले बनाम आर एस नायक (1988), एस आर बोम्मई बनाम भारत सरकार (1994) नरसिंह राव बनाम सरकार (1998), एमएस गिल बनाम मुख्य निर्वाचन आयोग (1978) तथा एम नागराज बनाम केंद्र सरकार जैसे बहुचर्चित मामलों में पैरवी की थी। एससीबीए के सचिव गौरव भाटिया ने कहा, "यह सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन और सम्पूर्ण वकील बिरादरी के लिए बड़ी क्षति है।"  

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400043000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।


बैडमिंटन : प्रणॉय हारे, प्रणव और सिक्की सेमीफाइनल में

टोक्यो (उत्तम हिन्दू न्यूज): भारत के एचएस प्रणॉय यहां जारी जापान ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट क...

राजकुमार राव की 'न्यूटन' जाएगी ऑस्कर, आज ही हुई है रिलीज

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज): बरेली की बर्फी में शानदार अभिनय क...

top