Saturday, November 18,2017     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
हरियाणा

ई-ट्रेडिंग के विरोध में आढतियों ने की हड़ताल 

Publish Date: September 13 2017 08:56:27pm

शाहाबाद(स्वामी): ई-ट्रेडिंग के विरोध में बुधवार को नई अनाज मंडी के आढ़तियों ने अपना कामकाज पूर्ण से बंद रखा और दुकानों के शटर बंद रहे। भारी संख्या में आढ़ती शैड के नीचे इक_ा हुए और सरकार विरोधी नारेबाजी की। इस अवसर पर बोलते हुए मंडी एसोसिएशन के प्रधान स्वर्णजीत सिंह कालडा बिट्टू ने कहा कि सरकार की ट्रेडिंग को जबरदस्त होना चाहती है जबकि ना तो यह आढतियों के हित में है और ना ही किसानों के। उन्होंने कहा कि सरकार की मंशा ठीक नहीं है और वह आढतियों के कारोबार पर कुठाराघात करना चाहती है। जिसे किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। मंडी एसोसिएशन के सचिव पवन बंसल ने कहा कि ई-ट्रेडिंग के माध्यम से धान की खरीद का होना संभव ही नहीं है क्योंकि प्रत्येक ढेरी की नमी व मापदंडो की चेकिंग कुछ लोग नहीं कर सकते। हजारों की संख्या में ढेरियां आती है तो ऐसे में कई-कई दिन तक किसान को मंडी में ही रुकना पड़ेगा। मंडी एसोसिएशन के चेयरमैन डा. प्रदीप गोयल ने सरकार को चेताया कि वह जल्द इस बारे में फैसला ले नहीं तो आने वाले धान के सीजन में भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। इस अवसर पर रामेश्वर बंसल, अशोक अग्रवाल, अजय गर्ग, दलजीत सिंह चौधरी, कुलवंत चावला, लकी चड्ढा, धनपतराय अग्रवाल, रवि गाबा, अजय गर्ग, प्रवीण गाबा, संजय बतरा, मनीष शर्मा जंधेड़ी, हर्षवर्धन कोहली, मान सिंह, प्रह्लाद, पवन कुमार सहित अनेक आढ़ती उपस्थित थे।
अंबाला(राजेन्द्र भारद्वाज): हरियाणा स्टेट अनाज मंडी आढ़ती एसोसिएशन की बैनर तले आज अंबाला के सैंकड़ो आढ़तियों ने डीसी के माध्यम से मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपकर सरकार द्वारा शुरू की जाने जा रही ई-ट्रेडिंग व डायरेक्ट पेमेंट को बंद करने व अन्य मांगो को लेकर मांग की गई है। एसो के पदाधिकारी एवं को आपे्रटिव एग्री कल्चर सोसायटियों के चेयरमैन कुलदीप सांगवान ने बताया कि  आढ़तियो के प्रतिनिधिमंडल की मुख्यमंत्री से 2016 में बातचीत हुई थी, जिसमें हमनें उन्हें बताया था कि मंडियो में धान के लिए ई-ट्रेडिंग प्रणाली अव्यवाहरिक एवं असंभव है। क्योंकि मंडियो मे आने वाला 20 प्रतिशत धान ही मानको के अनूरूप होता है। बाकी का धान ढेरी पर खड़े होकर उसकी गुणवत्ता सुनिश्चित कर खरीददार मौके पर खरीदता था। उस समय मुख्यमंत्री ने आश्वस्त किया था कि यह प्रणाली मंडियो में लागू नहीं की जायेगी, लेकिन अब फिर से हरियाणा मार्केटिंग बोर्ड ने इसे दोबारा लागू करने के आदेश दे दिये हैं। इससे प्रदेश के आढ़तियो में भारी रोष है। यदि निर्णय लागू किया गया तो प्रदेश के सभी आढ़ती आंदोलन को मजबूर हो जायेंगे और हरियाणा के करीब 35 हजार आढ़ती एवं 70 हजार मुनीम सड़कों पर आ जायेंगे। 
हांसी। अनाज की खरीद ऑनलाइन करने व फसल का भुगतान व्यापारियों के माध्यम से न करने का पत्र जो मार्केट कमेटियों ने जारी किया है इसको लेकर व्यपारियों ने आज मंडी में हड़ताल कर सरकार के खिलाफ रोष प्रदर्शन किया । सर्व व्यापार मंडल हांसी  के प्रधान बजरंग बंसल ने कहा कि क्योकि हम केन्द्र व राज्य सरकार को सबसे ज्यादा टैक्स हर राज्यों की सरकारों को सबसे ज्यादा राजस्व देकर सरकार का खजाना भरने का काम करते हैैैैैै। मगर बड़ अफसोस कि बात है कि व्यापारी सरकार का सहयोग होने के बावजूद भी सरकार व्यापारियों की तरफ कोई ध्यान नहीं दे रही । उन्होंने कहा कि ऑनलाइन प्रणाली हमे किसी भी कीमत पर सहन नहीं होगी अगर 19 सितम्बर तक इस प्रणाली को रद्द नहीं किया गया तो सरकार के खिलाफ आर पार की लड़ाई लडऩे का काम व्यापारी करेंगे।  
घरौंडा। मंडियों में ई-ट्रैडिंग व ऑनलाइन पेमेंट के विरोध में मंडी के आढ़ती एक दिन की सांकेतिक हड़ताल पर चले गए है। सरकार के निर्णय के खिलाफ लामबंद हुए व्यापारियों ने खट्टर सरकार के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की। व्यापारियों ने चेताया कि वे किसी भी सूरत में ई-ट्रेडिंग व ओनलाइन पेमेंट लागू नही होने देंगे। अपनी मांगों को लेकर मंडी आढ़तियों ने मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन मार्किट कमेटी सचिव को सौंपा। मंडी आढ़तियों ने स्पष्ट किया कि यदि 22 सितम्बर तक उनकी मांगें पूरी नही की गई तो वे 23 सितम्बर को अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे।
बुधवार को नई अनाज मंडी एसोसिएशन की बैठक मंडी प्रधान सुशील गर्ग की अध्यक्षता में हुई। जहां मंडी प्रधान ने सरकारी आढ़ती विरोधी नीतियों के बारे में बताया। जिसके बाद मंडी आढ़ती नारेबाजी करते हुए मार्किट कमेटी कार्यालय पहुंचें और वहां मार्किट कमेटी सचिव नरेश मान को मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर के नाम ज्ञापन सौंपा। 
जींद/सन्नी मग्गू। ई-ट्रेडिंग के विरोध में मार्केट कमेटी प्रांगण में आढ़तियों ने एक घंटे तक सांकेतिक हड़ताल रखी। 11 बजे से लेकर 12 बजे तक आढ़तियों ने मार्केट कमेटी प्रांगण में एकत्रित होकर धरना दिया। मार्केटिंग बोर्ड द्वारा शुरू की गई ई-ट्रेडिंग का विरोध करते हुए पहले की तरह नियमों को लागू करने की मांग की। 23 सितंबर को सीएम सिटी करनाल में होने वाली आढ़तियों की महारैली को लेकर भी अधिक से अधिक भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए आढ़तियों को जिम्मेदारी सौंपी। 
दी फूड ग्रेन डीलर एसोसिएशन के प्रधान बलराज श्योकंद ने कहा कि ई-ट्रेडिंग को लागू करके सरकार जो काला कानून लागू करना चाहती है उसे किसी सूरत में लागू नहीं होने देंगे। 
रादौर/नीतीश जोगी। हरियाणा स्टेट अनाजमंडी एसो० के आहवान पर बुधवार को रादौर, जठलाना व गुमथला अनाजमंडियों के  आढती अपनी मांगों को लेकर दो घंटे की हडताल पर रहे। इस दौरान आढतियों ने जिला प्रधान शिवकुमार संधाला के नेतृत्व में अपनी मांगों को लेकर अनाजमंडी में रोष प्रदर्शन किया। बाद में आढतियों ने जिला उपायुक्त को सीएम के नाम ज्ञापन सौंपकर उनकी मांग को पुरी करने की गुहार लगाई। जिला प्रधान शिवकुमार संधाला ने बताया कि सरकार ने किसानों की फसल के भुगतान को ई ट्रेडिंग व डायरेक्ट पेंमेंट उनके खाते में करने की व्यवस्था कर दी है। इस अवसर पर शिवकुमार संधाला, श्यामसुंदर बसंल, सुदेश राणा, विनोद कुमार, रामकुमार, पवन बंसल, विनोद कुमार, मोहित कुमार, रामगोपाल शर्मा, कुनाल सचदेवा, कांत कांबोज, रामकुमार शर्मा, अशोक बंसल, प्रदीप कुमार, युधिष्टिर मेहता, हरबंस मेहता, श्यामलाल शर्मा आदि उपस्थित थे। 
सिरसा/तिवाड़ी। हरियाणा सरकार द्वारा अनाजमंडियों के कारोबार में ई-नैम प्रणाली लागू करने को लेकर आज जिले की सभी सात अनाजमंडियों के व्यापारियों ने प्रादेशिक हड़ताल में शामिल होते हुए मार्केट कमेटी कार्यालय के सामने धरना दिया और कारोबार बंद रखा। द एसोसिएशन आढतियान के प्रधान सुरेन्द्र मिंचनाबाद वाले के नेतृत्व में एसोसिएशन से जुड़े लगभग सभी सदस्यों ने धरना प्रदर्शन में शिरकत की और सरकार के फैसले का विरोध किया।
लाडवा/शिवलाल चालिया। अनाज मंडी लाडवा में आज आढ़तियों ने राष्ट्रीय कृषि बाजार के तहत ई-ट्रेंडिंग व डायरैक्ट पेमेंट व अन्य मांगों बारे मार्केट कमेटी परिसर में रोष स्वरूप धरना दिया। धरने का नेतृत्व हरियाणा स्टेट मंडी आढ़ती एसोसिएशन अशोक गुप्ता कर रहे थे। उन्होंने कहा कि यदि सरकार ने 19 सितम्बर तक ई-ट्रेडिंग का आदेश वापिस नहीं लिया तो 23 सितम्बर को आढ़ती करनाल में महारैली करेंगे और आढ़ती पूरी ताकत से राज्य स्तर पर हरियाणा में इसका विरोध करेंगे। इस दौरान हरियाणा स्टेट अनाज मंडी आढ़ती एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री हरियाणा सरकार को पत्र लिखकर गत वर्ष 22.09.2016 को हुई वार्ता का भी हवाला दिया। उन्होंने कहा कि आढ़तियों की आढ़त 2.5 प्रतिशत है जिसको 3 प्रतिशत किया जाए। हरियाणा की मंडियों के लगभग 600 करोड़ रुपए चावल निर्यातकों के पास रुके पड़े हैं। पैसे दिलवाने के लिए सरकार हमारी मदद करे। मंडी लाडवा में आढ़तियों का धरना भविष्य में क्या रुख अपनाता है यह समय बताएगा।

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400023000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।


रणजी ट्रॉफी -दिल्ली के विशाल स्कोर के सामने लडख़ड़ाई महाराष्ट्र की पारी

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): कप्तान ईशांत शर्मा की आगुआई म...

आलोचना के बीच 'पद्मावती' के रोल पर ये बोलीं दीपिका पादुकोण...

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज): अभिनेत्री दीपिका पादुकोण कुछ समय ...

top