Tuesday, September 19,2017     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राजनीति

हिमाचल प्रदेश भाजपा

Publish Date: June 14 2017 01:32:01pm

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनावों को देखते हुए हिमाचल प्रदेश के अध्यक्ष सतपाल सत्ती ने प्रदेश के सभी 68 विधानसभा क्षेत्रों में परिवर्तन रथ यात्रा निकालने की घोषणा की है। परिवर्तन यात्रा को लोकसभा के क्षेत्रों अनुसार चार भागों में बांटा गया है। शिमला नगर निगम चुनावों के बाद शुरू होने वाली भाजपा की परिवर्तन रथ यात्रा में प्रदेश के सांसदों व वरिष्ठ नेताओं के अलावा केंद्रीय मंत्री भी इस परिवर्तन यात्रा में शामिल होंगे। वीरभद्र सरकार के विरुद्ध यात्रा के अलावा करीब 300 सार्वजनिक बैठकें भी की जाएंगी जिनमें वीरभद्र सरकार में फैले भ्रष्टाचार व प्रशासन में आई गिरावट जैसे मुख्य मुद्दे होंगे।

पिछले दिनों ऊना के पास हरोली में 80-90 के दशक में आतंकवाद विरुद्ध संघर्ष करने वाली राष्ट्रीय सुरक्षा समिति के तत्कालीन अध्यक्ष भाजपा के पूर्व विधायक व प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष रहे जयकिशन शर्मा से उनके स्वास्थ्य बारे पता करने गया था। वहां जाकर पता चला कि कुछ समय पूर्व प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र के दाहिना हाथ समझे जाने वाले मंत्री मुकेश अग्निहोत्री की भी कुछ समय पहले तबीयत ठीक नहीं थी लेकिन अब दोनों सज्जनों का स्वास्थ्य ठीक है, यह जानकर राहत मिली। वहां हुई बातचीत के दौरान यह बात भी स्पष्ट हो गई कि इस बार भी होने वाले विधानसभा चुनावों में भाजपा और कांग्रेस में कड़ा मुकाबला होने की संभावना ही है।

हरोली और ऊना के जन साधारण से बातचीत करने पर पता चला कि मुख्यमंत्री वीरभद्र जिस अंदाज से मुकद्दमों का सामना कर रहे हैं और जिस तरह प्रदेश में सक्रिय हैं तथा भाजपा को आये दिन चुनौती देते दिखाई दे रहे हैं, उनकी आयु को देखते हुए हिमाचल का आम जन वीरभद्र सिंह को एक झूंझार नेता के रूप में ही देख रहा है। पिछले दिनों हिमाचल प्रदेश में केंद्रीय मंत्रियों के आने पर जिस तरह भाजपा की धड़ेबंदी सामने आई उससे प्रदेश में भाजपा की छवि कमजोर हुई है। जहां तक हिमाचल प्रदेश भाजपा के नेताओं का प्रश्न है वह आत्मविश्वास से भरपूर दिखाई देते हैं। प्रेम कुमार धूमल तो प्रदेश में भाजपा का एक बड़े अंतर से जीतने का दावा कर रहे हैं। प्रेम कुमार धूमल का दावा कोई हवाई दावा नहीं है, तथ्यों पर आधारित है। कांग्रेस की भीतरी लड़ाई, वीरभद्र पर केंद्रीय नेतृत्व का बढ़ता दबाव व राज्य स्तर पर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सुक्खू द्वारा दी जा रही चुनौती वीरभद्र की समस्याओं को बढ़ाने का ही काम कर रही है।

तस्वीर का दूसरा पहलू यह है कि भाजपा में प्रेम कुमार धूमल और शांता कुमार के बीच की दूरी का तो सबको पता ही है। इस बीच केंद्रीय मंत्री जगत प्रकाश नड्डा का हिमाचल प्रदेश में चुनावों से पहले सक्रिय होना और उन्हें शांताकुमार का संरक्षण और समर्थन मिलने के कारण धूमल के लिए राजनीतिक स्तर पर मुश्किलें बढ़ रही हैं। प्रेम कुमार धूमल के सांसद बेटे अनुराग ठाकुर और छोटे बेटे अरुण धूमल पिता के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हैं। यह बात प्रेम कुमार धूमल को राहत देने वाली अवश्य है। उपरोक्त स्थिति को देखते हुए कहा जा सकता है कि भावी विधानसभा चुनाव भाजपा और कांग्रेस के लिए तो महत्वपूर्ण है ही लेकिन धूमल और वीरभद्र के लिए अति महत्वपूर्ण है, क्योंकि दोनों नेताओं के लिए यह चुनाव राजनीतिक दृष्टि से अंतिम चुनाव ही कहे जा सकते हैं। केवल सत्ता पर ही नहीं बल्कि पार्टी के संगठन पर पकड़ को लेकर भी काफी रस्साकशी की आशा है।

प्रदेश में राजनीतिक परिवर्तन की हवा तो महसूस की जा सकती है लेकिन यह हवा कोई लहर की शक्ल ले सकेगी यह कहना अभी मुश्किल है। भाजपा नेतृत्व को अति आत्मविश्वासी होने की आवश्यकता नहीं। राजा वीरभद्र सिंह अगर न्यायिकी मामलों में समय रहते अपना बचाव करने में सफल रहे हैं तो फिर आयु के इस पड़ाव पर भी वीरभद्र भाजपा को झटका देने की स्थिति में भी आ सकते हैं। भाजपा के प्रदेश नेतृत्व को परिवर्तन रथयात्रा के साथ-साथ पार्टी के भीतर चल रही धड़ेबंदी को समाप्त करने के लिए नेताओं के दिलों में परिवर्तन लाने के लिए भी कुछ ठोस करने की आवश्यकता है। भाजपा के नेताओं के दिलों में अगर परिवर्तन नहीं आता और वह एक-दूसरे का साथ नहीं देते तो प्रदेश में भाजपा के लिए मुश्किलें समय के साथ बढ़ेंगी और इसका लाभ प्रदेश कांग्रेस और विशेषतया वीरभद्र सिंह को ही मिलने वाला है, क्योंकि कांग्रेस में अभी वीरभद्र के राजनीतिक कद जैसा कोई नेता जो पूरे हिमाचल प्रदेश में लोकप्रिय हो दिखाई नहीं देता। भाजपा के लिए आंतरिक धड़ेबंदी और वीरभद्र ही मुख्य चुनौतियां हैं। प्रदेश भाजपा को इन दो मुद्दों पर ध्यान देने की आवश्यकता है।


इरविन खन्ना, मुख्य संपादक
, उत्तम हिन्दू
 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400043000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।


मास्टर ब्लाटर के 120 साल पुराने घर पर चलेगा 'बुलडोजर'

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज)- क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाल...

top