Thursday, November 23,2017     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
हरियाणा

पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरु की जयंती पर श्रद्धा सुमन अर्पित 

Publish Date: November 14 2017 07:23:41pm

कुरुक्षेत्र (पंकज अरोड़ा):कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में मंगलवार को देश के प्रथम प्रधानमंत्री प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरु के जन्मदिवस पर विश्वविद्यालय के अधिकारियों व कर्मचारियों ने श्रद्धांजलि अर्पित की। विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ कैलाश चन्द्र शर्मा ने विश्वविद्यालय परिसर में स्थित जवाहर लाल नेहरु पुस्तकालय के प्रांगण में स्थापित उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रदांजलि अर्पित की।  इस अवसर पर कुलसचिव डॉ. प्रवीण कुमार सैनी, एनएसएस के संयोजक प्रो. डीएस राणा, यूआईईटी के निदेशक प्रो. सीसी त्रिपाठी, प्रो. मनोज जोशी, जनसम्पर्क निदेशक  प्रो. तेजेन्द्र शर्मा, डॉ सीआर जिलोवा, डॉ. मुकेन्द्र कादियान, कुटा प्रधान डॉ. संजीव शर्मा, डॉ. सुभाष, निदेशक युवा एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम विभाग डॉ. सीडीएस कौशल, परीक्षा नियंत्रक डॉ ओपी आहूजा, मुख्य सुरक्षा अधिकारी डॉ अनिल गुप्ता, डिप्टी लाईब्रेरियन डॉ. संजय कौशिक, रवि थापा, जयवीर सिंह, कुंटिया महासचिव नीलकंठ, डॉ. दीपक शर्मा, डॉ हरविन्द्र राणा सहित कई अन्य शिक्षक एवं कर्मचारी मौजूद थे। 
नेहरू के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता : विनोद  
देश के प्रथम प्रधानमंत्री प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरु के जन्मदिवस पर कांग्रेसी कार्यकत्र्ताओं ने नेहरू जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। इस अवसर पर जिला कांग्रेस कमेटी पूर्व कोषाध्यक्ष विनोद गर्ग ने कहा कि आजादी की लड़ाई में स्वतंत्र भारत प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू जी के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता 15 वर्ष की आयु में आजादी की लड़ाई से प्रेरित होने वाले नेहरू पढ़ाई के बाद भारत लौटते ही महात्मा गांधी जी के साथ कंधे से कंधा मिलाकर अग्रेंजी हकूमत के साथ संघर्ष करते हुए भारत को आजादी के मुकाम तक पहुंचाया। आज भारत में नेहरू जी को याद किया जाता है और आज के दिन बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है और बच्चे प्यार से उन्हेंं चाचा नेहरू पुकारते थे। 1946 मेें नेहरू जी के द्वारा लिखी पुस्तक डिस्कवरी ऑफ इंडिया प्रकाशित हुई जिसमें दुनिया की संस्कृति ओर इतिहास का वर्णन था। 1915 मे इलाहाबाद में अखबारों के पाबंदी कानून के विरोध में पहला सार्वजनिक भाषण दिया आजादी की लड़ाई में कई बार जेल भी गये। इस अवसर पर सुधीर चुघ, अनिल वत्स, राजेश ंसल, सतीश गर्ग, पंकज अरोड़ा, राहुल कश्यप, सोनू वर्मा, कर्मचंद एवं कई कार्यकत्र्ता मौजूद थे।
देश को नेहरू की जरूरत - पवन गर्ग
हरियाणा कांग्रेस कमेटी के महामंत्री, एआईसीसी के पूर्व सदस्य व पूर्व जिला अध्यक्ष पवन गर्ग ने पंडित जवाहर लाल नेहरू की 128वीं जयंती के उपलक्ष्य में कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी लाइब्रेरी में स्थित नेहरू जी की प्रतिमा पर पुष्प समर्पित करने के बाद कहा कि आधुनिक भारत के निर्माता, विश्वशांति के अग्रदूत, देश की आजादी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले व भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू की आज के समय में पुन: जरूरत है। पंडित नेहरू ने कभी अपने जीवन में हार नहीं मानी थी वे भारत की आजादी के लिए निरंतर लगे रहे। इसी का परिणाम था कि आज हम आजाद भारत में रह रहे है्र।  इससे मौके पर मेहर सिंह रामगढिय़ा पूर्व अध्यक्ष की अध्यक्षता में कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी की लाइब्रेरी प्रांगण में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व नेत्री उपस्थित रहे। इस अवसर पर कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे मेहर सिंह ने कहा कि नेहरू जी कहते थे कि असफलता तभी का कारण हमारे द्वारा अपने सिद्धांतो को भूलना है। इसलिए हमें अपने सिद्धांतो को हमेशा स्मरण रखना चाहिए।  इस अवसर पर वरिष्ठ
कांग्रेस नेता राय साहब शर्मा, लक्ष्मी कांत शर्मा, शमशेर, रणधीर, महिला नेत्री बिमला सरोहा, नीलकंठ, सतीश, दर्शन खन्ना, सुरेंद्र मित्तल बिट्टू, रामबीर ढांडा, मुंशी राम, जय भगवान गुप्ता, गुरमेल, भूषण भारती, जरनैल सिंह, सहित अन्य जन उपस्थित रहे।

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400023000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।


बैडमिंटन-सिंधु हांगकांग ओपन के क्वार्टर फाइनल में, प्रणॉय बाहर 

हांगकांग (उत्तम हिन्दू न्यूज): रियो ओलम्पिक पदक विजेता पी.वी. सिंधु ने गुरुवार को हांगकांग...

top