Monday, December 11,2017     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राजनीति

लश्कर-ए-तैयबा को झटका

Publish Date: November 21 2017 02:18:45pm

श्रीनगर में बदामीबाग मुख्यालय में 15वीं कोर के लेफ्टिनेंट जनरल जे.एस. संधू ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान बताया कि लश्कर-ए-तैयबा के छ: 'आतंकवादी कमांडरों के खात्मे के साथ घाटी में इसके शीर्ष नेतृत्व का सफाया हो चुका है। जनरल ने गत शनिवार को चलाए गए अभियान के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि हाजिन क्षेत्र चिंता का विषय था। इस क्षेत्र में आतंकवादियों ने कुछ लोगों को मार डाला था। उन्होंने कहा कि कश्मीर में सुरक्षाबलों की कार्रवाई में जनवरी से अब तक कुल 190 आतंकी मारे गए है और 200 आतंकी अब भी घाटी में सक्रिय हैं। संधू ने बताया कि क्षेत्र में विशेष बल तैनात किए गए और अ'छी जानकारियां आनी शुरू हो गईं। हम चांदेगीर गांव पर न•ार बनाए हुए थे। ये आतंकवादी दो-तीन दिन से एक घर में रह रहे थे। जनरल ने मारे गए एक आतंकवादी की पहचान ओसामा जांगवी उर्फ ओवैद के रूप में की है, जो जकी-उर-रहमान का रिश्तेदार और शायद जकीउर रहमान मक्की का बेटा है। औवेद सहित छह पाकिस्तानी आतंकवादी और लश्कर के दो अन्य शीर्ष कमांडर जरगर और महमूद शनिवार को मारे गए। जनरल ने कहा कि हम घाटी में अभियान को जारी रखने और जल्द ही शांति बहाल होने का इंतजार कर रहे हैं। जम्मू एवं कश्मीर के पुलिस महानिदेशक एस.पी. वैद्य ने इस्लामिक स्टेट (आईएस) के उन दावों का खंडन किया है, जिसमें आतंकवादी संगठन ने दावा किया था कि शुक्रवार को श्रीनगर के जाकुरा में हुआ हमला कश्मीर में आईएस का पहला हमला है। हमले में एक पुलिसकर्मी के शहीद होने के साथ ही एक आतंकवादी मारा गया था। इस बारे में टिप्पणी करने के लिए कहे जाने पर उन्होंने कहा कि नही, इसकी पुष्टि होनी अभी बाकी है। मुझे नहीं लगता कि यहां आईएस की कोई मौजूदगी है। लेफ्टिनेंट

जनरल जे.एस.संधू ने स्थानीय आतंकवादियों से पाकिस्तान की ओर से छद्म युद्ध में भाग लेकर हिंसा का रास्ता अपनाने के बजाय इसे छोड़ कर समाज की मुख्यधारा में शामिल होने की अपील की है।'
सेना, सुरक्षा बलों व स्थानीय पुलिस के आपसी तालमेल के कारण पाकिस्तान समर्थित लश्कर-ए-तैयबा को गत शनिवार एक बड़ा झटका लगा है। मरने वाले आतंकियों का सीधा संबंध पाकिस्तान में बैठे आतंकियों का नेतृत्व कर रहे शीर्ष नेतृत्व से ही था। पाकिस्तान एक नकारात्मक लड़ाई भारत विरुद्ध लड़ रहा है। इस लड़ाई में पाकिस्तान को अब तक अगर कुछ मिला है तो वह बदनामी ही है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान की छवि दिन ब दिन कमजोर होती चली जा रही है। अपनी नकारात्मक राजनीति के कारण पाकिस्तान के भीतर भी तनाव बढ़ रहा है। आर्थिक स्थिति कम•ाोर होती जा रही है। राजनीतिक अस्थिरता के कारण पाकिस्तान को अब एक असफल देश के रूप में भी देखा जा रहा है। पाकिस्तान की नकारात्मक सोच व नीति के कारण अंतरराष्ट्रीय मंचों से लेकर राष्ट्रीय मंचों तक बदनामी झेलनी पड़ी है। लश्कर-ए-तैयबा भी पाकिस्तान की नकारात्मक तथा भारत विरोधी सोच का ही परिणाम है।

भारत ने धैर्य और संयम के साथ पाकिस्तान द्वारा दी चुनौतियों का समय-समय पर सफलतापूर्वक सामना किया है। श्रीनगर में सेना, सुरक्षा बल और जम्मू-कश्मीर पुलिस द्वारा पाक समर्थित आतंकी संगठनों विरुद्ध कार्रवाई के अब सकारात्मक परिणाम आने लगे हैं। पाकिस्तान की झोली में असफलता व बदनामी के सिवा और कुछ नहीं मिलने वाला। बेहतर यही है कि पाकिस्तान लश्कर-ए-तैयबा तथा ऐसा अन्य आतंकी संगठनों को संरक्षण व समर्थन देना छोड़ कर अपनी आंतरिक स्थिति को बेहतर करने के प्रयास करे। यह तभी होगा जब पाकिस्तान अपनी नकारात्मक सोच को त्याग कर सकारात्मक ढंग से सोचना व देखना तथा कार्य करना शुरू करेगा।


-इरविन खन्ना, मुख्य संपादक, दैनिक उत्तम हिन्दू।

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400023000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।


एचडब्ल्यूएल फाइनल्स : आस्ट्रेलिया ने अर्जेटीना को मात दे जीता खिताब

भुवनेश्वर (उत्तम हिन्दू न्यूज): पेनाल्टी कॉर्नर विशेषज्ञ ब्ले...

कुछ ऐसा था विराट-अनुष्का की शादी का नजारा, देखें तस्वीरें

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज) : जिन तस्वीरों का इंतजार पूरा देश कर रहा था, आखिरकार वह तस्...

top