Tuesday, December 12,2017     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राजनीति

चीन की एक और चाल-ब्रह्मपुत्र पर जाल

Publish Date: November 21 2017 02:21:20pm

पिछले सोमवार को हांगकांग से प्रकाशित 'साउथ चाइना मार्निंग पोस्ट' में चीनी इंजीनियरों के कमाल का दिग्दर्शन बखानते हुए एक आलेख प्रकाशित हुआ जिसमें यह शेखी बघारी गयी थी कि चीन तिब्बत की पवित्र मानसरोवर झील से निकलने वाली चीन-तिब्बत, बंगलादेश और भारत के बीच बहने वाली नदी 'सांग्पो' जो भारत में 'ब्रह्मपुत्र नदी' कहलाती है को एक हजार किलोमीटर लम्बी सुरंग बना कर चीनी क्षेत्र के शिनजियांग प्रांत के रेगिस्तानी क्षेत्र तक ले जा कर अपने इस सूखे क्षेत्र को हरा भरा करेगा। 

इस आलेखनुमा खबर में यह दर्शाया गया है कि चीनी इंजीनियर प्रवृत्ति की संरचना को भी बदलने में सक्षम हैं और वे अपनी अपार क्षमताओं के चलते सदियों से चली आ रही प्राकृतिक रचनाओं में भी आमूल-चूल परिवर्तन करने की शक्ति रखते हैं। आलेख में दावा किया गया है कि ब्रह्मपुत्र के जल से शिनजियांग प्रांत कैलीफोर्निया से भी अधिक हराभरा और समृद्ध हो जाएगा। 

इस से पहले भी चीन से छन-छन कर खबरें आती रही हैं कि चीन सांग्पो (ब्रह्मपुत्र) पर बड़े-बड़े बाँध बना कर ब्रह्मपुत्र के स्वाभाविक बहाव को तो प्रभावित कर ही रहा है अपितु भारत में कृत्रिम बाढ़ लाने के लिए एक हथियार के रूप में उन्हें विकसित भी कर रहा है। भारत के विरोध प्रकट करने पर चीन इसके जवाब में यह आश्वासन देता रहा है कि वह ब्रह्मपुत्र पर कोई बाँध नहीं बना रहा है। वह तो ब्रह्मपुत्र की सहायक नदियों पर छोटे छोटे बाँध बना रहा है जिस से ब्रह्मपुत्र का स्वाभाविक बहाव प्रभावित होने की कोई सम्भावना नहीं है।

चीन भारत को चारों ओर से घेरने का प्रयास पिछले कई वर्षों से अनवरत रूप से कर रहा है। अपनी इस नीति के चलते उसने पाकिस्तान, नेपाल, श्री लंका, मालदीव और बांग्लादेश से विभिन्न समझौते कर भारत को घेरने की शुरुआत तो कर ही दी है। पिछली सरकारों की दब्बू और अस्पष्ट विदेश नीतियों के चलते वह इन देशों से समझौते करने में सफल रहा है किन्तु जब से मोदी सरकार सत्ता में आई है पड़ोसी देशों से भारत के सम्बन्धों में सुधार की सम्भावनाओं में आशातीत अभिवृद्धि हुई है। पाकिस्तान की जन्मजात भारत दुश्मनी को अगर छोड़ दें तो अन्य पड़ोसी देशों का विश्वास और भरोसा भारत पर बढ़ा है और अधिकाँश ने वक्त आने पर भारत का समर्थन कर अपनी भारत नीति को स्पष्ट भी किया है जिस से चीन को काफी निराशा का सामना भी करने का कष्टकर माहौल झेलना पड़ा है। 

भारत पर दबाव बनाने के लिए चीन ने अभी हाल में ही डोकलाम काण्ड को सफलता पूर्वक करने का प्रयास किया गया किन्तु मोदी सरकार की स्पष्ट विदेशनीति और भारतीय सेना की जन्मजात बहादुरी ने उसे अपने कदम पीछे हटाने के लिए विवश होना पड़ा। भारत पर दबाव बनाने के लिए चीन ने समुद्र में लडाकू बेड़ा भी उतारा। अपने अस्त्र-शस्त्रों की ताकत का भोंडा प्रदर्शन करना पड़ा और वह केवल यहीं नहीं रुका। उसने भारत पर राजनैतिक और कूटनीतिक सभी तरह के दांव आजमाने के षडयंत्र भी किये किन्तु जब उसने स्पष्ट रूप से समझ लिया कि भारत की सेना और भारत सरकार अब दबाव में आने वाली नहीं है तो उसने अपनी इज्जत का भ्रम रखने के लिए अपनी फौजों को तो वापस किया ही किया, भारत को यह आश्वासन भी दिया कि भारत की सम्प्रभुता पर वार करने का उसका कोई इरादा नहीं था और न ही भविष्य में इस प्रकार की किसी रणनीति की योजना पर कोई कार्य हो रहा है।
इतिहास गवाह है कि चीन पर जिसने भी विश्वास किया, वह उसके मजबूत जाल में उलझ कर रह गया और अपना सर्वस्व खो बैठा है। इसका सबसे ताजा उदाहरण तिब्बत और पाकिस्तान के रूप में देखा जा सकता है। तिब्बत को तो वह हड़प कर ही चुका है। पाकिस्तान को सब्जबाग दिखा कर अक्साई चिन जिस पर पाकिस्तान का भारतीय क्षेत्र पर नाजायज कब्जा चल रहा है, का काफी बड़ा हिस्सा और ग्वादर पोर्ट तक गलियारे के रूप में बलोच और सिंध के कुछ भाग पर कब्जा जमा ही चुका है। अब अधिक देर नहीं है जब चीन पाकिस्तान के एक बड़े हिस्से पर अपना हक जताएगा और फिर उसके एक बड़े हिस्से बलूचिस्तान और सिंध के हिस्से अपने कब्जे में ले लेगा। केवल पंजाब ही पाकिस्तान के वजूद के रूप में दुनिया के नक्शे पर रह जाएगा। 

भारत के भी एक बहुत बड़े हिस्से पर चीन अपना हक जताता रहा है किन्तु भारत स्वयं एक महाशक्ति के रूप में उभर रहा है इसलिए वह भारत से सीधे उलझने से बचता रहा है। फिर भी 1962 के आक्रमण से वह भारत के पूर्वोत्तर का एक छोटा सा हिस्सा दबा ही चुका है। ऐसी परिस्थिति में वह सीधी लड़ाई से बच कर भारत को दबाव में लेने के लिए इस प्रकार के नाटक कर रहा है कि भारत दबाव में आए और उससे उसकी शर्तों के अधीन सीमा समझौता कर उसके बताए क्षेत्र से अपना कब्जा छोड़ कर उसका स्वामित्व चीन को दे दे किन्तु वह नहीं जानता कि मोदी की सरकार इस प्रकार के दबावों में आने वाली नहीं है और न ही अंतिम सांस तक लडऩे से पीछे हटने वाली है।

जहां तक ब्रह्मपुत्र का सवाल है, भारत की इस बड़ी नदी पर बहुत निर्भरता है और एक तरह से यह भारत के पूर्वी हिस्से की जीवन रेखा के रूप में विद्यमान है। चीन इस बात को जानता है और इसे भारत की दुखती नस समझ कर गाहे बगाहे दबाने की अपनी शरारत करता रहता है। यहाँ यह भी उल्लेखनीय है कि विकास की होड़ में चीन ने पर्यावरण की चिंता कभी नहीं की है और उसका एक बहुत बड़ा क्षेत्र पर्यावरण के लिहाज से भारी मुसीबत में है किन्तु वह पर्यावरण को प्राकृतिक संसाधनों से प्रतिपूरित करने के बजाय कृत्रिम संसाधनों से प्रतिपूरित करने की नीति पर चल रहा है जिसका दुष्परिणाम यह हुआ है कि स्वयं चीन के अपने क्षेत्र में जीवित पचास हजार नदियों में से आधी से अधिक सूख कर मृत हो चुकी हैं। इतनी बड़ी त्रसदी के बाद भी चीन को अक्ल नहीं आ रही है और वह प्राकृतिक संसाधनों से छेड़छाड़ कर ब्रह्मपुत्र जैसी महान नदी का बहाव सुरंगों के माध्यम से बदलने के सपने देख रहा है।

राज सक्सेना, लेखक 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400023000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।


एचडब्ल्यूएल फाइनल्स : आस्ट्रेलिया ने अर्जेटीना को मात दे जीता खिताब

भुवनेश्वर (उत्तम हिन्दू न्यूज): पेनाल्टी कॉर्नर विशेषज्ञ ब्ले...

top