Tuesday, December 12,2017     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
हिमाचल प्रदेश

गुडिय़ा मामले को सुलझाने में उलझी CBI, चुनौती बना कातिलों तक पहुंचना

Publish Date: November 27 2017 07:49:33pm

शिमला (ऊषा शर्मा): प्रदेश को झकझोर कर रख देने वाले कोटखाई के बहुचर्चित गुडिय़ा मामले में जांच एजेंसी सीबीआई अभी तक कातिलों का सुराग नहीं लगा पाई है। भले ही सीबीआई ने गुडिया प्रकरण से जुड़े लाकअप हत्याकांड में 9 पुलिस कर्मियों को सलाखों के पीछे धकेल दिया है, लेकिन गुडिय़ा मामला सुलझाने सीबीआई के लिए चुनौती बन गया है। गुडिय़ा के कातिलों तक पहुंचने के सीबीआई पुरजोर कोशिश कर रही है। वह 80 से अधिक संदिग्धों के ब्लड सैंपल सहित कोटखाई के आस पास दर्जनों लोगों से भी पूछताछ कर चुकी है, लेकिन फिर भी देश की सर्वोच्च जांच एजेंसी को गुडिय़ा के कातिलों का पता नहीं चल पा रहा है। सीबीआई इस मामले में हर पहलू को खंगाल कर जांच करने में जुटी हुई है, लेकिन अभी तक सीबीआई ऐसे पहलू को उजागर नहीं कर सकी है, जिसके दम पर सीबीआई के हाथ गुडिय़ा के कातिलों के गिरेबान तक पहुंच सके। सीबीआई की इस कार्यप्रणाली से अब लोगों का भी भरोसा उठने लग पड़ा है।

कोटखाई के इस बहुचर्चित गुडिय़ा प्रकरण मामले में लोग अब यही चर्चा करते सुनाई देते हैं कि ये कैसी देश की सर्वोच्च जांच एजेंसी। सीबीआई को पहले गुडिय़ा के अहम केस की जांच करनी चाहिए थी लेकिन सीबीआई इस प्रकरण से जुड़े आरोपी की लाकअप हत्या कांड मामले की जांच में जुट गई। लोगों में ये भी चर्चा हो रही है कि सीबीआई लाकअप हत्याकांड वाला केस सुलझा कर इस मामले में लोगों को शांत करवाना चाहती है। जबकि ये आम लोगों को पता था कि लाकअप में हुई आरोपी की हत्या पुलिस कर्मचारियों की लापरवाही से ही हुई है। ऐसे में लाकअप हत्या कांड के आरोपी पुलिस कर्मचारी ही होंगे।

गुडिय़ा केस सीबीआई ने पिछले पांच महीने हर पहलुओं की जांच की, लेकिन अभी तक कोई बड़ी गिरफतारी इस केस में नहीं हुई है। यहां तक कि जिन आरोपियों को पुलिस की एसआईटी ने दो दिन के अंदर गिरफतार कर लिया था सीबीआई उन पर भी आरोप साबित  नहीं कर पाई । सीबीआई द्वारा गुडिया के कातिल न पकड़े जाने पर अदालत से पुलिस द्वारा गिरफतार किए गए पांचों आरोपी भी जमानत पर रिहा हो गए है। अब इस मामले में गुडिया के आरोपी खुलेआम घूम रहे है, जबकि गुडिया केस की जांच करने वाले पुलिस कर्मी सलाखों के पीछे बंद है। सीबीआई द्वारा 25 अक्तूबर को उच्च न्यायालय में पेश की गई स्टेट्स रिपोर्ट से भले ही उच्च न्यायालय संतुष्ट हो लेकिन गुडिया के कातिल पकड़ मे न आने के कारण लेागों में सीबीआई के खिलाफ अब रोष बढता जा रहा है। प्रदेश उच्च न्यायालय में अब 20 दिसंबर को इस पूरे मामले की सुनवाई होगी। अगर तब तक भी सीबीआई गुडिया के कातिलों तक न पहुंच पाई तो लोग सीबीआई के खिलाफ सड़को ंपर उतर सकते है।

गौरतलब है कि कोटखाई गुडिया प्रकरण के मुख्य केस की जांच पड़ताल करने के लिए पिछले कुछ दिनों से सीबीआई की टीम कोटखाई में ही डटी हुई है।  सीबीआई की टीम ने बीते शुक्रवार को महासू स्कूल में जाकर स्कूल प्रबंधन व छात्रों से पूछताछ भी की थी। अब सीबीआई इस मामले में 6 जुलाई को खेलकूद प्रतियोगिता में भाग लेने आए शिक्षकों से भी फिर पूछताछ करेगी।

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400023000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।


एचडब्ल्यूएल फाइनल्स : आस्ट्रेलिया ने अर्जेटीना को मात दे जीता खिताब

भुवनेश्वर (उत्तम हिन्दू न्यूज): पेनाल्टी कॉर्नर विशेषज्ञ ब्ले...

top