Tuesday, December 12,2017     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राजनीति

प्रधानमंत्री का आह्वान

Publish Date: November 28 2017 11:47:34am

26/11/2008 को मुंबई में हुए आतंकी हमले में शहीद हुए सुरक्षा कर्मियों को तथा मारे गए निर्दोष लोगों को श्रद्धांजलि देते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपनी 'मन की बातÓ में विश्व को आतंकियों के विरुद्ध एकजुट होने का आह्वान किया है। 'पीएम मोदी ने कहा, '26/11 हमारा संविधान दिवस है, लेकिन यह देश कैसे भूल सकता है कि नौ साल पहले 26/11 को आतंकवादियों ने मुंबई पर हमला बोल दिया था। देश उन बहादुर नागरिकों, पुलिसकर्मियों, सुरक्षाकर्मियों, हर किसी का स्मरण करता है, उनको नमन करता है, जिन्होंने अपनी जान गंवाई। यह देश उनके बलिदान को कभी भूल नहीं सकता।Ó मोदी ने कहा, 'आतंकवाद ने विश्व की मानवता को ललकारा है। आतंकवाद ने मानवतावाद को चुनौती दी है। वह मानवीय शक्तियों को नष्ट करने पर तुला हुआ है और इसलिए सिर्फ भारत ही नहीं, विश्व की सभी मानवतावादी शक्तियों को एकजुट होकर आतंकवाद को पराजित करना ही होगा।Ó प्रधानमंत्री ने संविधान दिवस के मौके पर संविधान निर्माताओं को याद करते हुए कहा, 'भारत का संविधान हमारे लोकतंत्र की आत्मा है। आज का दिन संविधान सभा के सदस्यों को स्मरण करने का दिन है। संविधान के निर्माण में बाबा साहब भीमराव आंबेडकर की भूमिका का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा 'हम भारत के जिस संविधान पर गौरव का अनुभव करते हैं उसके निर्माण में बाबा साहब आम्बेडकर के कुशल नेतृत्व की अमिट छाप है। उन्होंने यह सुनिश्चित किया कि समाज के हर तबके का कल्याण हो। देश को समृद्ध और शक्तिशाली बनाने में बाबा साहेब का योगदान अविस्मरणीय है।'
संविधान दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने कहा 'कि समय के साथ हमारे संविधान ने हर परीक्षा को पास किया। हमारा संविधान संवेदनशील और लचीला है। पीएम ने अपने संबोधन में कहा कि हम रहे या ना रहे, लेकिन जो व्यवस्था हम देश को देंगे वो सुरक्षित रहेगा। पीएम मोदी ने कहा कि हमारे संविधान में हर चुनौती का समाधान है। ऐसा कोई विषय नहीं जिसकी व्याख्या और दिशा-निर्देश भारतीय संविधान में ना मिलते हो। स्वतंत्रता के बाद जब करोड़ों लोग नई उम्मीदों के साथ आगे बढऩे का सपना देख रहे हों तो उस समय देश के सामने एक ऐसा संविधान प्रस्तुत करना जो सभी को स्वीकार्य हो आसान काम नहीं था। पीएम मोदी ने कहा कि इन 68 वर्षों में संविधान ने हमें अभिभावक की तरह सही रास्ते पर चलना सिखाया है। हमारा संविधान जितना जवाबदेह है, उतना सक्षम भी है। मोदी ने कहा कि संविधान की इसी शक्ति को समझते हुए संविधान सभा के अंतरिम चेयरमैन श्री सच्चिदानंद सिन्हा जी ने कहा था कि मानव द्वारा रचित अगर किसी रचना को अमर कहा जा सकता है तो वो भारत का संविधान है। बाबा साहेब ने कहा था कि ये वर्केबल और फ्लेक्सेबल है, इसमें देश को एकजुट रखने की ताकत है। पीएम मोदी ने कहा, बाबा साहेब ने ये भी कहा था कि संविधान के सामने रखकर अगर कुछ गलत होता भी है तो उसमें गलती संविधान की नहीं, बल्कि संविधान का पालन करवा रही संस्था की होगी। संविधान ने देश को लोकतंत्र के रास्ते पर बनाए रखा और उसे भटकने से रोका है।Ó
वर्तमान दौर में देश के सामने एक तरफ आतंकवाद की चुनौती है तो दूसरी तरफ संविधान की मूल भावना बनाये रखने की चुनौती है। पिछले तीन दशक से अधिक समय से देश पड़ोसी देश पाकिस्तान द्वारा समर्थित आतंकवाद का सामना कर रहा है। वहीं देश का संविधान बदलती परिस्थितियों में अपनी सार्थकता कैसे बनाये रखे इसको लेकर लगातार मंथन चल रहा है। समय पर संविधान में किये गए संशोधन इस बात की गवाही है कि हमारा संविधान एक जीवंत दस्तावेज है और जन की भावनाओं का सम्मान करते हुए ही इसमें बदलाव लाये गए हैं। 
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जहां विश्व को आतंकवाद विरुद्ध एकजुट होने का आह्वान किया है वहीं देशवासियों को संविधान के प्रति अपनी आस्था को बनाये रखने का आह्वान किया है। हमारा संविधान में जितना अधिक विश्वास मजबूत होगा उतना ही हमारी लोकतांत्रिक प्रणाली मजबूत होगी।
देश में सरकार अगर पहले कांग्रेस की या कांग्रेस समर्थित दलों की रही आज भाजपा व उसकी समर्थित पार्टियों की है। लेकिन कार्य तो सभी को संविधान अनुसार ही करना है। संविधान में हमारी आस्था ही हमें विश्व में एक मजबूत लोकतांत्रिक देश के रूप में स्थापित करती है। वहीं आतंकवाद की असफलता को भी सुनिश्चित करती है। प्रधानमंत्री द्वारा दिए आह्वान को गंभीरता से लेने की आवश्यकता है। हमारा भविष्य हमारा संविधान प्रति तथा आतंकवाद प्रति क्या दृष्टिकोण है उसी पर निर्भर है।


 -इरविन खन्ना, मुख्य संपादक, दैनिक उत्तम हिन्दू।

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400023000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।


एचडब्ल्यूएल फाइनल्स : आस्ट्रेलिया ने अर्जेटीना को मात दे जीता खिताब

भुवनेश्वर (उत्तम हिन्दू न्यूज): पेनाल्टी कॉर्नर विशेषज्ञ ब्ले...

top